Monday, May 2, 2011

राजभाषा संस्थान द्वारा सोलन में राजभाषा संगोष्ठी, कार्यशाला व किशोर कृत "खरी-खरी" पोस्टर प्रदर्शनी का आयोजन





सोलन, हि.प्र.। गत दिनों यहाँ प्रसिद्ध हिन्दी सेवी रहे स्व. श्री हरिबाबू कंसल द्वारा ठित राजभाषा संस्थान, नई दिल्ली द्वारा 27 से 29 अप्रै, 2011 तक अपनी 70 वीं हीरक जयन्ती संगोष्ठी एवं कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें दिल्ली सहित देश भर के दो दर्जन से भी अधिक सरकारी कार्यालयों के सैकड़ों प्रतिनिधियों ने भाग लिया। संगोष्ठी व कार्यशाला के दौरान प्रसिद्ध हिन्दी विद्वानों सर्वश्री गोपेश गोस्वामी (नौएडा) एवं डॉ. महेश चंद्र गुप्त व निशिकांत महाज (दिल्ली) ने बदलते व्यवसायिक परिवेश में हिन्दी, कार्यानवयन प्रक्रिया के अंग व वातावरण अनुकूलन, आस्था, विश्वास व निष्ठा, कम्प्यूटरीकरण व सूचना प्रौद्यागिकी एवं राजभाषा प्रबंधन आदि अनेक विषयों पर अपने वक्तव्य प्रस्तुत किए। इस अवसर पर विभिन्न कार्यालयों से आए प्रतिनिघियों ने अपने आलेख भी प्रस्तुत किए।

संगोष्ठी के दौरान प्रतिभागियों का कुफरी, कसौली व शिमला आदि स्थानों का ज्ञानवर्द्धक व रोचक शैक्षिक भ्रमण भी कराया गया और विभिन्न कार्यालयों कोे उनकी हिन्दी संबंधी उत्कृष्ट गतिविधियों व गृह पत्रिकाओं के प्रकाशन व सुंदर आलेख प्रस्तुतिकरण के लिए सम्मानित किया गया।

इसमें नई दिल्ली के विस्तार निदेशालय कार्यालय से शामिल हुए सहायक निदेशक श्री किशोर श्रीवास्तव को भी अपने कार्यालय में हिन्दी का सुंदर ढंग से प्रयोग करने व हिन्दी संबंधी उत्कृष्ट गतिविधियों के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर राजभाषा हिन्दी व अन्य सामाजिक विषयों को लेकर निर्मित व दो दशकों से भी अधिक समय से निरन्तर देश भर में प्रदर्शित हो रही श्री किशोर श्रीवास्तव की कार्टून पोस्टर प्रदर्शनी ‘खरी-खरी’ का आयोजन भी किया गया। जिसे प्रतिभागियों व अन्य आगन्तुकों ने अत्यन्त सराहा। समस्त कार्यकम्रों का सुंदर संयोजन संस्थान के मुख्य कार्यपालक श्री सुधीश कंसल ने किया।
video video video video